ALLAHABAD: डेढ़ साल के मासूम बेटे सत्यम को मौत के घाट उतारने के बाद मां कंचन खुद फांसी पर लटक गयी. इस सनसनीखेज वारदात से परिवारवालों के साथ पुलिस भी सन्नाटे में आ गयी. इस परिवार में दो दिन के भीतर तीन मौतें हो चुकी हैं. घटना का कारण भूत-प्रेत और झाड़-फूंक बताया जा रहा है. पुलिस ने दोनो की बॉडी को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है.

माता क्यों बन गयी कुमाता

दिल दहला देने वाली यह वारदात घूरपुर थाना के दुबना में सोमवार को दिन में सामने आयी. मृतका 22 वर्षीय कंचन की शादी पांच साल पहले बोंगी गांव के रहने वाले जय कुमार पटेल के साथ हुई थी. डेढ़ वर्ष पूर्व उसने बेटे सत्यम को जन्म दिया था. जय कुमार सोमवार की सुबह नाश्ता करके काम पर चला गया था. दिन में वह लंच के लिए घर लौटा तो खटखाटने के बाद भी भीतर से बंद दरवाजा नहीं खुला. दीवार की एक ईंट निकाल कर देखने पर पता चला कि पत्‍‌नी फांसी पर लटकी हुई हैं. उसकी चीख निकल गयी तो आसपास के लोग जुट गये. सूचना पाकर पुलिस भी पहुंच गयी. पुलिस ने देखा तो आगे के कमरे की चारपाई पर डेढ़ वर्ष के मासूम का शव पड़ा था. कपड़े से आधा बदन ढका गया था. दूसरे कमरे में कंचन साड़ी को मौत का फंदा बनाकर लटक रही थी.


दो दिन पूर्व ओझा कर गया था झाड़ फूंक

पत्‍‌नी का बेटे का शव सामने देखकर जय फफक पड़ा. उसने पुलिस को बताया की कंचन पर किसी भूत प्रेत का साया था. दो दिन पूर्व एक ओझा को बुलाकर झाड़ फूंक कराया गया था. वह आये दिन मरने मारने की बात करती थी. कंचन के पिता राजेंद्र पटेल ने बेटी की शादी के बाद अपना घर बेच दिया था और दो बेटे अमरजीत व छोटकु व पत्नी के साथ बेटी कंचन के गांव में ही आकर बस गये थे. कंचन दो भाई व दो बहन थी. बड़ी बहन की भी मौत तीन वर्ष पूर्व हो चुकी है. कंचन के पिता ने ही पुलिस को लिखित तहरीर दिया है लेकिन इसमें किसी पर कोई आरोप नही लगाया है. बता दें कि रविवार को बीमारी से कंचन की सास विजय लक्ष्मी की मौत हो गई थी. दूसरे दिन कंचन व सत्यम की मौत चर्चा का विषय बना हुआ है.

परिजन भूत प्रेत की बाधा के चलते आत्महत्या करने व च्च्चे को मार डालने की बात कर रहे हैं. अन्य पहलुओं पर भी जांच की जा रही है. पीएम रिपोर्ट आने के बाद स्पष्ट हो जाएगा.

मनोज कुमार, एसआई

Crime News inextlive from Crime News Desk