महिला ने आधार और मोबाइल कंपनी से पूछे बड़े सवाल

आजकल देश भर में लोग अपने मोबाइल नंबर को आधार से वेरीफाई कराने में जुटे हुए हैं। यही काम कराने जब प्रिय नाम की एक महिला मोबाइल कंपनी के ऑफिस पहुंची तो उसे बताया गया कि आपका नंबर आधार से लिंक नहीं हो सकता, क्‍यों‍कि इस आधार नंबर पर पहले से 9 मोबाइल कनेक्‍शन चल रहे हैं। यह सुनकर प्रिया के तो होश ही उड़ गए, क्योंकि ये मोबाइल नंबर वो पिछले 18 साल से यूज कर रही हैं और कंपनी कह रही है कि ये वेरीफाई नहीं हो सकता और जल्‍दी ही बंद हो सकता है। गनीमत रही कि प्रिया काफी जागरुक निकलीं और उन्‍होंने टि्वटर पर UIDAI और एयरटेल से सवाल पूछा कि यह उनकी जिंदगी का सबसे बड़ा सदमा है कि जो नंबर मैं इतने सालों से यूज रही हूं वो आधार से लिंक नहीं हो सकता और कंपनी कह रही है कि इस नंबर पर पहले से 9 मोबाइल सिम इश्‍यू किए जा चुके हैं।

आपके आधार नंबर पर कितने मोबाइल कनेक्‍शन चल रहे हैं? पता कर लो,वर्ना इन मैडम जैसा हाल न हो!

जवाब न मिलने पर प्रिया ने दूसरा बड़ा सवाल किया कि अब मैं क्‍या करुं। मुझे UIDAI, एयरटेल से शिकायत करनी चाहिए या फिर पुलिस में।

आपके आधार नंबर पर कितने मोबाइल कनेक्‍शन चल रहे हैं? पता कर लो,वर्ना इन मैडम जैसा हाल न हो!

अपने स्‍मार्टफोन में न करें ये 3 काम, वर्ना होगा पड़ेगा परेशान!

4 दिन के लंबे इंतजार के बाद आया UIDAI का चौंकाने वाला जवाब

16 जनवरी को UIDAI को ट्वीट करने के बाद परेशान प्रिया को 4 दिन के लंबे इंतजार के बाद 21 जनवरी को UIDAI से सहायता नहीं सिर्फ ये जवाब मिला कि 'कम से कम यूजर को यह तो मालूम चल रहा है कि उसके आधार से कितने मोबाइल नंबर लिंक हैं। ऐसे केस में उपभोक्‍ता TRAI या DOT की TERM cell में फर्जी लोगों को सिम जारी करने को लेकर शिकायत कर सकते हैं। आधार अथॉरिटी ने यह भी कहा कि वो प्रिया के मामले में एयरटेल से बात कर रहे हैं कि ऐसी गड़बड़ी आखिर कैसे हुई।

आपके आधार नंबर पर कितने मोबाइल कनेक्‍शन चल रहे हैं? पता कर लो,वर्ना इन मैडम जैसा हाल न हो!

आपका आधार नंबर कहीं मिसयूज तो नहीं हो रहा? 1 मिनट में जानिए यहां...

आज मोबाइल कंपनी ने कहा कि गड़बड़ी कुछ और ही है

आज एयरटेल कंपनी ने ट्वीट करके प्रिया को एकदम नई जानकारी दी है। कंपनी ने कहा है हम कंफर्म करते हैं कि आपके आधार नंबर पर आपके अलावा कोई भी दूसरा मोबाइल नंबर रजिस्‍टर नहीं है और हम आपकी प्रॉब्‍लम का जल्‍द से जल्‍द सभाधान निकालने की कोशिश कर रहे हैं। इसके बाद प्रिया ने ट्वीट करके बताया कि कंपनी ने उन्‍हें बताया है कि कंपनी के सॉफ्टवेयर में किसी गड़बड़ी के कारण ये प्रॉब्‍लम आई थी, जिसे वो सॉल्‍व करने की कोशिश कर रहे हैं। वैसे कंपनी के इस जवाब पर तमाम लोग शक कर रहे हैं कि क्‍या वाकई सॉफ्टवेयर की प्रॉब्‍लम से ऐसा हुआ, या फिर अपनी शाख बचाने के लिए कंपनी ने वो सभी 9 फर्जी मोबाइल कनेक्‍शन आनन-फानन में बंद कर दिए हैं।

आपके आधार नंबर पर कितने मोबाइल कनेक्‍शन चल रहे हैं? पता कर लो,वर्ना इन मैडम जैसा हाल न हो!

अगर आप भी ये मोबाइल गेम खेलते हैं तो फौरन बंद कर दीजिए कहीं फोन आपका खेल न बिगाड़ दे!

खैर जो भी हो एक बात तो तय है कि अब तक किसी के भी आधार नंबर से कई फर्जी मोबाइल कनेक्‍शन चल रहे थे, जिन्‍हें बायोमेट्रिक द्वारा वेरीफाई किए जाने के बाद ही पहचाना जा सकता है। जैसा शॉक प्रिया को लगा वैसा ही आपको न लगे, इसके लिए जान लीजिए कि आपका आधार नंबर भी फर्जी फोन या गैस कनेक्‍शन के लिए कहीं यूज तो नहीं किया जा रहा। जानने के लिए ये पढि़ए।


आपके स्‍मार्टफोन की मेमोरी हो जाएगी 1 TB, बस करना होगा ये काम

National News inextlive from India News Desk