lucknow@inext.co.in
LUCKNOW : महिला उत्पीडऩ की बढ़ती घटनाओं से निपटने के लिये प्रदेश सरकार अब इंटीग्रेटेड महिला हेल्पलाइन 181 को अपना हथियार बनाएगी। शासन ने सभी कमिश्नर व डीएम को हेल्पलाइन का व्यापक प्रचार-प्रसार करने के निर्देश जारी किये हैं। इसके तहत संपूर्ण प्रदेश में सभी सार्वजनिक जगहों पर इस हेल्पलाइन का नंबर अंकित कराने के साथ ही 'समस्या अनेक-समाधान एक' स्लोगन के साथ जागरूक्ता कैंपेन भी चलाया जाएगा। महिला एवं बाल विकास  मंत्री डॉ. रीता बहुगुणा जोशी ने इसकी मॉनीटरिंग की कमान खुद संभाल ली है।

जानकारी के अभाव में नही ले पातीं लाभ
महिला एवं बाल विकास मंत्री डा. रीता बहुगुणा जोशी ने बताया कि भारत सरकार द्वारा महिलाओं को सहायता मुहैया कराने के लिये 181 महिला हेल्पलाइन का संचालन किया जा रहा है। जिसके तहत सूचना मिलने पर तुरंत संबंधित महिलाओं को जरूरी सहायता मुहैया कराई जाती है। 181 महिला हेल्पलाइन हर जिले में रेस्क्यू वैन की सेवायें 24 घंटे उपलब्ध है। हालांकि, व्यापक प्रचार प्रसार के अभाव में यह हेल्पलाइन अब भी कई महिलाओं को इस हेल्पलाइन की जानकारी नहीं है। जिसके चलते वे जरूरत पडऩे पर इसका लाभ नहीं ले पातीं। गौरतलब है कि अप्रैल 2017 से अब तक 2.55 लाख कॉल्स हेल्पलाइन पर आ चुकी हैं। हालांकि, प्रदेश की जनसंख्या को देखते हुए यह बेहद कम हैं। इसकी वजह जागरूक्ता का अभाव है।

चलाएंगे जागरूक्ता अभियान

डॉ. जोशी ने बताया कि प्रदेश भर की महिलाओं व युवतियों को महिला हेल्पलाइन नंबर 181 के प्रति जागरूक करने के लिये सभी कमिश्नर व डीएम को आदेश जारी किया गया है। इसके तहत सभी स्कूल-कॉलेजों की दीवारों पर, सभी शासकीय कार्यालयों की दीवारों पर, सभी पुलिस थानों के साथ ही जिलाधिकारी कार्यालय, जिला चिकित्सालयों, सभी प्राइवेट हॉस्पिटल्स, शॉपिंग मॉल्स, मैरेज हॉल व लॉन, बस स्टेशन, रेलवे स्टेशन, शॉपिंग मॉल्स समेत सभी सार्वजनिक स्थानों पर महिला हेल्पलाइन 181 के बारे में वॉल पेंटिंग की जाएगी। इसके साथ ही सभी सिनेमा हॉल में भी इसे प्रमुखता से प्रचारित किया जाएगा।

हां अंकित होंगे नंबर
शॉपिंग मॉल, स्कूल, कॉलेज, मार्केट, थानों व अन्य सार्वजनिक स्थानों पर इंटीग्रेटेड हेल्पलाइन नंबर अंकित कराने के निर्देश

हेल्पलाइन के जरिये मिलेंगी ये सुविधाएं
- महिलाओं के साथ किसी भी तरह की अप्रिय घटना होने पर रेस्क्यू वैन और रेस्क्यू टीम के जरिये घटनास्थल पर तुरंत पहुंचकर सहायता
- महिलाएं घरेलू हिंसा, चिकित्सा परामर्श, कानूनी परामर्श, पुलिस सहायता और अन्य प्रकार की समस्या के समाधान की जानकारी
- कोई भी महिला हेल्पलाइन पर कॉल करके अपने अधिकारों की या विभिन्न सरकारी योजनाओं की जानकारी ले सकती है
- टेली काउंसिलिंग के जरिए प्रशिक्षित काउंसलर की सेवा 24 घंटे उपलब्ध

अप्रैल 17 से अब तक
- 2.55 लाख कॉल्स
- 16 हजार महिलाओं का रेस्क्यू
- 1.20 लाख महिलाओं की ऑनस्पॉट काउंसिलिंग के जरिये मौके पर समस्या का निराकरण।

डॉ. रीता बहुगुणा जोशी के घर आगजनी के आरोपी को कोर्ट से राहत

मियां बीवी की नाराजगी, कंट्रोल रूम 'काजी'

National News inextlive from India News Desk