नगरायुक्त के आश्वासन पर भी नहीं बनी बात

अधिकारियों के दफ्तरों में लटके रहे दूसरे दिन भी ताले

Meerut. अपने साथी कर्मचारी की सेवा समाप्ति की मांग के विरोध में धरने पर बैठे नगर निगम के कर्मचारियों की हड़ताल दूसरे दिन भी जारी रही. निगम परिसर में सुबह से धरना-प्रदर्शन का दौर शुरू हो गया. निगम के कार्यालयों पर मंगलवार से ही तालाबंदी होने के कारण बुधवार को भी मेयर, नगरायुक्त समेत आला अधिकारी सीट पर नहीं बैठ सके.

नहीं मिली राहत

संयुक्त संघर्ष समिति के बैनर तले आयोजित हड़ताल के दूसरे दिन कर्मचारियों से मिलने पहुंचे नगरायुक्त ने कर्मचारियों से बात कर हड़ताल खत्म करने के लिए कहा लेकिन कर्मचारियों ने 11 सूत्रीय मांग और कर्मचारी साथी की सेवा बर्खास्तगी के प्रस्ताव को निरस्त करने के बाद ही हड़ताल खत्म करने का ऐलान कर दिया. हालांकि नगरायुक्त ने आश्वासन दिया की जल्द ही इस विषय में बात कर समस्या का निस्तारण किया जाएगा.

वापस लौटे अधिकारी

दो दिन से कर्मचारियों के प्रदर्शन के चलते निगम में आला अधिकारियों की कार्यालयों पर ताले जडे़ हुए हैं. जिस कारण से निगम में मेयर से लेकर नगरायुक्त, अपर नगरायुक्त, नगर स्वास्थ्य अधिकारी समेत तमाम दूस,रे अधिकारियों का भी कार्यालय में बैठना बंद हो गया है. बुधवार को भी अपने कार्यालय पहुंचे नगरायुक्त और अपर नगरायुक्त कार्यालय पर ताला लगा देख विरोध के चलते वापस चले गए.

ड्यूटी फील्ड में

दो दिन से निगम परिसर पर निगम कर्मचारियों का कब्जा है. मुख्य गेट से लेकर अधिकारियों के कमरों पर ताला लगा होने के कारण आला अधिकारी अपनी ड्यूटी फील्ड में दिखाकर खानापूर्ति कर रहे हैं. साथ ही धरने को आगे बढ़ाते हुए समिति द्वारा गुरुवार से निगम परिसर में धरने पर बैठे कर्मचारियों का खाना बनाने के लिए बकायदा रसोई की शुरुआत की जाएगी.

कार्यकारिणी की बैठक में हुए विवाद को निपटाने के लिए प्रयास किया जाएगा. जो सही मांगे हैं, वे मानी जाएंगी. इस संबंध में आज कार्यालय में जाकर कर्मचारियों से मुलाकात भी की है.

मनोज चौहान, नगरायुक्त

कार्यालय में ताला लगा हुआ है और कर्मचारियों का विरोध और न बढ़े इसलिए कार्यालय में बैठना नहीं हो रहा है.

अली हसन कर्नी, अपर नगरायुक्त

नगर की सफाई व्यवस्था को दुरुस्त करने के लिए अधिकतर समय फील्ड में ही बीतता है. दो दिन से लगातार धरना चल रहा है इसलिए कार्यालय जाना नहीं हो रहा.

डॉ. कुंवर सेन, नगर स्वास्थ्य अधिकारी