समुद्री जीवों में सबसे समझदार किलर व्‍हेल ने अपनी नई अदा से दुनिया को चौंकाया

फ्रांस के मरीनलैंड एक्वेरियम में रहने वाली मादा किलर व्‍हेल मछली ने कुछ इंसानों शब्‍दों को दोहराना शुरु कर दिया है। यानि कि वो किसी इंसान को 'हैलो' और 'बाय बाय' अच्‍छे से कह सकती है। 'Wikie' नाम की इस मछली को ये सारे शब्‍द एक प्रशिक्षक ने सिखाए हैं। 'Wikie' कभी कभी One, Two, Three और Amy जैसे शब्‍दों को भी दोहराती है। किलर व्‍हेल समुद्री डॉल्फिन फैमिली की मछली है और सभी समुद्री जीवों में काफी समझदार मानी जाती है। ट्रेनिंग के दौरान इस किलर व्‍हेल ने साबित कर दिया कि यह इंसानी द्वारा बोले गए तमाम शब्‍दों को सुनकर उन्‍हें आसानी से कॉपी कर सकती है। समुद्री जीव द्वारा इंसानी भाषा में बात करने का यह अनोखा मामला है। इसलिए कई जीव विज्ञानी इस व्‍हेल पर आगे भी रिसर्च जारी रखेंगे।

विज्ञान या इंसान किसके चमत्‍कार से ये whale मछली बोल रही है अंग्रेजी भाषा?

कान में मोबाइल या इयरफोन नहीं, सिर्फ उंगली लगाकर होगी कॉलिंग, ये है तरीका

'Wikie' मछली कैसे निकालती है इंसानी आवाज

'Wikie' नाम की यह किलर व्‍हेल इंसानी भाषा में जो कुछ भी कहती है, उसके लिए वो अपना मुंह‍ पानी के बाहर निकालती है और जोर से चिल्‍लाती है। व्‍हेल के मुंह से हैलो, बॉय जैसी आवाज सुनकर उसके प्रशिक्षक से लेकर दर्शक भी चौंक जाते हैं। इस व्‍हले पर रिसर्च कर रहे यूनिवर्सिटी ऑफ सेंट एंड्र्यूज़ के शोधकर्ता डॉ. जोसेफ कॉल के मुताबिक 'विकी' पानी के बाहर मुंह निकालकर ये आवाजें निकालती है, पानी के भीतर उसकी ये आवाजें कुछ अलग सी सुनाई देंगी। उनका कहना है कि हमने अबतक सिर्फ इसी व्‍हेल पर रिसर्च की है, इसलिए अभी यह दावा नहीं किया जा सकता कि दो या तीन अन्‍य व्‍हेल भी ऐसी ही आवाजें निकाल पाएंगी या नहीं।

 

भारत में LED बल्‍ब से चलेगा दुनिया का सबसे तेज इंटरनेट, स्‍पीड होगी इतनी जो आप सोच भी नहीं सकते!

कुछ वैज्ञानिक चाहते हैं कि हम उनकी भाषा सीखें ना कि अपना भाषा उन्‍हें सिखाएं

समंदर में किलर व्‍हेल अपने समूह में काफी बातचीत करती पाई जाती हैं और इस किलर व्‍हेल 'Wikie' ने उसी बातचीत की छमता को और वि‍कसित करते हुए इंसानी भाषा में आवाजें निकालकर दुनिया को चौंका दिया है। बातचीत करने की 'Wikie' की क्षमताओं को देखते हुए इस रिसर्च से जुड़े दूसरे वैज्ञानिकों का मान रहे हैं कि भविष्‍य में इस व्‍हेल के साथ आम बातचीत हो पाएगी। हालांकि इस व्‍हेल को लेकर स्‍पेन के फेमस वैज्ञानिक डॉ. जोस अब्राम्सन कहते हैं कि जीवों को इंसानों की तरह ट्रेंड करना या उन्‍हें अपनी भाषा सिखाना आसान हो सकता है, लेकिन हमें उससे कोई फायदा नहीं होगा। हमें असली फायदा तो तब होगा, जब हम इस व्‍हेल समेत तमाम जीवों की भाषा को सीख और समझ सकें।

महिलाओं के कपड़ों में बटन बाईं ओर क्यों होते हैं! इसका राज जान लीजिए, वर्ना महिलाएं क्‍या कहेंगी?

International News inextlive from World News Desk