फॉक्‍सकॉन के साथ साझेदारी में लगे नये यूनिट
नई दिल्‍ली (प्रेट्र)।
शाओमी के वाइस प्रेसिडेंट और भारत के प्रबंध निदेशक मनु जैन ने पत्रकारों से एक बातचीत में बताया कि शाओमी के भारत में पहले से ही दो स्‍मार्टफोन मैन्‍युफैक्‍चरिंग यूनिट काम कर रहे थे। अब कंपनी ने श्री सिटी, आंध्र प्रदेश और तमिलनाडु के श्रीपेरंबुदुर में स्‍मार्टफोन बनाने के तीन नये कारखाने लगाए हैं। ये यूनिट फॉक्‍सकॉन के साथ साझेदारी में लगाए गए हैं। इसके अतिरिक्‍त हाईपैड की साझेदारी में शाओमी नोएडा में भी थोड़ी संख्‍या में स्‍मार्टफोन का निर्माण करेगी। इन यूनिटों के साथ ही भारत में शाओमी की स्‍मार्टफोन बनाने की क्षमता दोगुनी हो जाएगी। संचालन घंटों में कंपनी के मोबाइल निर्माण की क्षमता प्रति सेकेंड 2 स्‍मार्टफोन की होगी।

कार्यरत कर्मचारियों में 95 प्रतिशत महिलाएं
जैन ने बताया कि इन यूनिटों में 10 हजार से ज्‍यादा कर्मचारियों को काम पर रखा गया है। कार्यरत कर्मचारियों में से 95 प्रतिशत महिलाएं हैं। शाओमी फॉक्‍सकॉन की साझेदारी में श्रीपेरंबुदुर में एक पीसीबी असेंबली यूनिट भी लगा रही है। उन्‍होंने कहा कि कंपनी भारत में निर्माण करने को प्रतिबद्ध है। किसी भी स्‍मार्टफोन की कीमत का 50 फीसदी लागत पीसीबी की होती है। तिसरी तिमाही के बाद से भारत में निर्मित सभी शाओमी स्‍मार्टफोन के पीसीबी स्‍थानीय स्‍तर पर बने हुए लगाए जाएंगे।

भारत की टॉप थ्री मोबाइल कंपनियों में शाओमी
जैन ने कहा कि शाओमी देश की टॉप थ्री स्‍मार्टफोन कंपनियों में शामिल है। भारत में ग्‍लोबल सप्‍लायर्स का 50 प्रतिशत से ज्‍यादा हिस्‍सेदारी शाओमी की ही है। ये कंपनियां आंध्र प्रदेश और उत्‍तर प्रदेश का दौरा करके स्‍थानीय स्‍तर पर निर्माण उद्योग लगाने की संभावनाओं और निवेश की तलाश करेंगी। यदि ये कंपनियां भारत में निवेश करने का विकल्‍प चुनती हैं तो इनवेस्‍टमेंट का आंकड़ा 15 हजार करोड़ रुपये से ज्‍यादा का होगा। इन कारखानों के लगने से 50 हजार से ज्‍यादा लोगों को रोजगार का मौका मिलेगा।

Business News inextlive from Business News Desk