JAMSHEDPUR: एक्सएलआरआइ, जमशेदपुर के बिजनेस मैनेजमेंट के द्वितीय वर्ष के छात्र हर्ष बलानी का शव कोलकाता के धर्मतल्ला के होटल पियरलेस इन के बाथरूम में बाथटब के पास से गुरुवार को पुलिस ने बरामद किया है. वह गुजरात के राजकोट का रहने वाला था. शव के पास एक चाकू भी बरामद हुआ है, जिससे मामला संदेहास्पद हो गया. पुलिस पता लगाने की कोशिश कर रही है कि छात्र ने खुदकशी की है या रंजिश में उसकी हत्या की गई है.

एक्सएलआरआइ से गुरुवार की सुबह हर्ष कोलकाता घूमने को जानकारी देते हुए निकला था. इस दुखद घटना पर एक्सएलआरआइ प्रबंधन ने शोक जताया है. वहीं उसके सहपाठी घटना की खबर से दुखी नजर आए. सहयोगियों ने बताया कि वह काफी हंसमुख स्वभाव का था. हमेशा दूसरे की मदद को आगे रहता था.

एक बार भी कमरे से नहीं निकला

पुलिस को पूछताछ में होटल प्रबंधन ने बताया कि गुरुवार को हर्ष होटल में एक कमरा बुक कराने आया था. उसने कई कमरे को देखा इसके बाद 1401 नंबर कमरा बुक कराया था. कमरे में जाने के बाद वह एक बार भी बाहर नहीं निकला. वहीं, शुक्रवार की रात कई बार दस्तक देने के बाद भी अंदर से कोई आवाज नहीं आई. इसके बाद होटल के कर्मचारी ने दूसरी चाबी से दरवाजा खोला तो वहां हर्ष नहीं था. बाथरूम का भी दरवाजा अंदर से बंद था. तब उन्हें संदेह हुआ इसके बाद उन लोगों ने बाथरूम का दरवाजा तोड़ा तो वहां का मंजर देखकर वे सन्न रह गए. बाथरूम में हर्ष बाथटब के पास अचेत अवस्था में पड़ा हुआ था. इसके बाद हर्ष को एसएसकेएम अस्पताल ले जाया गया. जहां डाक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया.

इधर, घटना की सूचना पाकर पुलिस होटल पहुंची. जहां उन्हें बाथटब के पास से एक चाकू मिला है. गले पर जख्म के निशान मिले हैं. पुलिस यह पता लगाने की कोशिश कर रही है कि हर्ष ने खुदकशी की है या फिर उसकी हत्या की गई है. शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है. अब रिपोर्ट आने के बाद ही मामला स्पष्ट हो पाएगा. फिलहाल मामले की जांच की जा रही है.

2017 में लिया था एडमिशन

2017 में हर्ष बलानी ने बिजनेस मैनेजमेंट कोर्स में पीजी डिप्लोमा को दाखिला लिया था. उसने बिट्स पिलानी से स्नातक किया था, वहीं दिल्ली पब्लिक स्कूल, बेंगलुरु से 12वीं तक की पढ़ाई की थी. उबर और जेएस में उसने इंटर्नशिप किया था.

एक्सएलआरआइ के होनहार छात्र हर्ष की मौत से संस्थान से मर्माहत है. घटना की जानकारी प्रबंधन को शुक्रवार रात मिली. कोलकाता घूमने की बात कहते हुए वह संस्थान से गया था.

सुनील वर्गीस, प्रवक्ता, एक्सएलआरआइ