पॉपअप कैमरा:
इस साल वीवो ने गैलेक्सी नेक्स नाम से एक ऐसा फोन लॉन्च किया था, जिसका पॉपअप कैमरा काफी चर्चा में रहा। इसे कंपनी ने सेल्फी कैमरे के लिए शामिल किया था। यह कैमरा दिखाई नहीं देता है फोन की बॉडी में छुपा होता है। जैसे ही यूजर सेल्फी मोड ऑन करता हैं, वैसे ही यह बॉडी से निकल कर बाहर आ जाता है। इस तरह की तकनीक पहली बार देखने को मिली है। इसी तरह स्लाइड आउट कैमरा भी सुर्खियों में रहा। ओप्पो, ऑनर और शाओमी जैसी कंपनियों ने स्लाइड ऑउट कैमरे वाले फोन लॉन्च किए। इसमें भी फ्रंट में दिया गया सेल्फी कैमरा छुपा होता है।

साल 2018 में इन 5 तकनीकों ने बदल डाली हमारे स्‍मार्टफोन की दुनिया,भूलिएगा मत

वॉटरड्रॉप नॉच:
स्‍क्रीन की बात चली है तो नए नॉच ट्रेंड का जिक्र करना भी जरूरी है। साल 2017 में एपल ने नॉच स्‍क्रीन की शुरुआत की थी। 2018 में ओप्पो और वीवो जैसी कंपनियों ने इससे आगे बढ़ते हुए वॉटरड्रॉप नॉच की शुरुआत कर दी है। इस तकनीक के अंतर्गत स्‍क्रीन के बीच में पानी के बूंद के समान एक छोटा-सा नॉच होता है। पंच होल स्‍क्रीन भी साल 2018 के अंत होते-होते सुर्खियों में आ गया। इसकी शुरुआत सैमसंग ने की। नॉच जहां स्‍क्रीन के बीच में होता है। वहीं पंच होल के तहत स्‍क्रीन के किसी भी साइड में एक होल कर दिया जाता है और उस पर सेल्फी कैमरा उपलब्ध होता है।

डुअल डिस्प्ले:
वर्ष 2018 में सबसे बड़ी इनोवेशन स्‍क्रीन तकनीक के रूप में देखने को मिला है। नॉच और पंच होल के बाद डुअल डिस्प्ले ने सभी को काफी आकर्षित किया। सबसे पहले नुबिया ने यह फोन पेश किया था और उसके बाद वीवो ने लॉन्च किया। इन फोन में फ्रंट और बैक में दो बड़ी स्‍क्रीन का उपयोग किया गया है यानी दोनों ओर से फोन का उपयोग कर सकते हैं।

साल 2018 में इन 5 तकनीकों ने बदल डाली हमारे स्‍मार्टफोन की दुनिया,भूलिएगा मत

इनडिस्प्ले फिंगरप्रिंट स्कैनर:
पहले फिल्मों में दिखता था कि स्‍क्रीन पर हाथ लगाया और डिवाइस अनलॉक हो गया। 2018 में यह कल्पना भी हकीकत में बदल गई। वीवो ने एक्स21 मॉडल से इसकी शुरुआत की थी। इसके बाद आप्पो, वनप्लस और शाओमी जैसी कंपनियों ने अपने फोन में इनडिस्प्ले फिंगरप्रिंट का उपयोग किया। यह तकनीक काफी चर्चा में रही।

5जी:
2018 की बात कर रहे हैं और 5जी का जिक्र न हो तो फिर सबकुछ अधूरा ही लगेगा। हालांकि इस साल 5जी आ नहीं पाया, लेकिन 5जी तैयारी पूरी हो गई है और नए साल में यह हमारे दरवाजे पर दस्तक दे देगा। इसी साल जीएसएमए ने 5जी के लिए स्टैंडर्ड सेट कर दिया, तो कंपनियों ने भी तुरंत 5जी मोडम और प्रोसेसर बनाने पर काम शुरू कर दिया। कई देशों में 5जी स्पैक्ट्रम निर्धारित कर दिया गया, तो कई कंपनियों ने अपने 5जी फोन की घोषणा भी कर दी।

साल 2018 में इन 5 तकनीकों ने बदल डाली हमारे स्‍मार्टफोन की दुनिया,भूलिएगा मत

मोबाइल कैमरा सॉफ्टवेयर:
कैमरा सेंसर के अलावा साल 2018 में कैमरा सॉफ्टवेयर भी काफी चर्चा में रहा। एक ओर जहां एआई ने फोटो को इनहांस करने का काम किया है। वहीं सिंगल कैमरा लेंस से बोकेह इफेक्ट और ब्लर बैकग्राउंड जैसी चीजें देखने को मिली। इसके अलावा, 3डी पिक्‍चर के लिए नई टीओएफ तकनीक का भी उपयोग किया जा रहा है, जो कि आने वाले कुछ दिनों में काफी फोन सेट्स में देखने को मिलेंगे।

आपके बहुत काम आएंगी ये 3 स्मार्टफोन Apps, यकीन ना हो तो खुद आजमाइए

मनपसंद जॉब खोजना कभी नहीं था इतना आसान, अब AI चैटबॉट्स चुटकियों में कर देंगे आपका यह काम

आधार से लेकर ड्राइविंग लाइसेंस तक डिजिलॉकर में सब कुछ रहेगा सुरक्षित, जानें इस्‍तेमाल का आसान तरीका

Technology News inextlive from Technology News Desk