- पड़ोसी से चल रहा था जमीन को लेकर टकराव

- जान से मारने की धमकी दी, हंगामा और जाम

आगरा. थाना एमएम गेट के शीतला गली के पास लोगों ने युवक का शव रखकर हंगामा कर दिया. परिजन हत्या का आरोप लगा रहे थे. पड़ोसी सूदखोर की गिरफ्तारी की मांग कर रहे थे. सीओ कोतवाली ने किसी तरह स्थिति को नियंत्रित कर लोगों को शांत किया. पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद मामले में कार्रवाई का आश्वासन दिया.

जमीन का चल रहा है विवाद

एमएम गेट स्थित शीतला गली निवासी 40 वर्षीय नरेश यादव पुत्र मोहनलाल यादव का घर के पास ही गाय-भैंसों का बाड़ा है. उसका जमीन को लेकर पड़ोसी से लंबे समय से विवाद चल रहा था. कुछ दिन पहले कोर्ट के आदेश के बाद दोनों पक्षों में समझौता हो गया. पड़ोसी ने जमीन के एक हिस्से पर अपना मकान बनवा लिया. दूसरे हिस्से पर बाड़ा बना रहा.

जान से मारने की दी धमकी

परिजनों का कहना था कि पड़ोसी ने मकान में बाड़े की तरफ दो जंगले निकाल दिए. दो दिन पहले नरेश ने जंगले बंद करने के लिए बोला. इस पर पड़ोसी ने जान से मारने की धमकी दी. गुरुवार रात से नरेश अपने घर से गायब थे. सुबह पांच बजे जब परिजनों की आंख खुली तो उसे घर में नहीं पाया. परिजनों ने उसकी तलाश शुरू कर दी. सुबह छह बजे पड़ोसी ने बस्ती के एक युवक को नरेश को अपने घर में फंदे से लटका हुआ बताया. परिजन वहां पहुंच गए.

पंखे से लटका मिला युवक

पड़ोसी के निर्माणाधीन मकान की पहली मंजिल पर नरेश का शव पंखे के कुंडे से लटका हुआ था. मौके पर कोई ऐसा सामान नहीं था जिस पर चढ़ कर वह फांसी लगाता. परिजनों ने सीधे तौर पर पड़ोसी पर हत्या का आरोप लगाया है. उनका कहना था कि पड़ोसी ने उसकी हत्याकर शव फंदे पर लटका दिया.

जाम लगा कर किया हंगामा

हत्या का आरोप लगाते हुए परिजनों ने हंगामा कर दिया. हत्यारोपी की गिरफ्तारी की मांग को लेकर कालीबाड़ी चौराहे पर जाम लगा दिया. पुलिस पहुंच गई. लोग शव को नहीं उठने दे रहे थे. सीओ कोतवाली अब्दुल कादिर पुलिस फोर्स के साथपहुंच गए. सीओ ने लोगों को समझाकर शांत किया. सीओ का कहना था कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद मामले में कार्रवाई की जाएगी.

एरिया में हत्यारोपी से और भी हैं परेशान

हत्यारोपी पड़ोसी के पास अच्छी खासी प्रॉपर्टी बताई गई है. शीतला गली में उसकी काफी प्रॉपर्टी है. उसके कई मकान हैं. साथ ही थाने की बिल्डिंग भी उसी की बताई जा रही है. इसके अलावा वह सूदखोर भी बताया गया है. उससे ब्याज पर रुपया लेकर कई लोग अपना सबकुछ गवां चुके हैं.