features@inext.co.in

एक बार एक जूते बनाने वाली कंपनी अपने दो सेल्समैन को एक आइलैंड पर भेजती है और उनसे कहती है कि चेक करो वहां हमारे बिजनेस का कितना स्कोप है। क्या वहां पर काम शुरू किया जा सकता है?

दोनों सेल्समैन का कंपनी में परफॉरमेंस अच्छा था, इसलिए दोनों का चयन किया गया। वो दोनों तय समय पर उस आइलैंड पर पहुंच गए। वहां की स्थिति देखकर वो हैरान रह गए। वहां सारे लोग नंगे पांव चल रहे थे। न तो किसी के पैरों में चप्पल थी, न जूते। यही स्थिति पूरे आइलैंड पर थी। दोनों सेल्समैन ने अपने अपने अनुसार स्थिति का जायजा लिया।

सकारात्मक हो आपका नजरिया

नजरिया तय करती है आपकी सफलता,इस कहानी से ले सकते हैं प्रेरणा

पहला सेल्समैन अपने बॉस को फोन करता है और उनसे कहता है कि यहां पर तो कोई भी जूते पहनता ही नहीं है। यहां पर तो कुछ हो ही नहीं सकता। बिजनेस का कोई स्कोप नहीं है। वहीं दूसरा सेल्समैन भी अपने बॉस को फोन करता है और कहता है कि यहां पर हमारे बिजनेस का बहुत बड़ा स्कोप है, क्योंकि यहां कोई जूते पहनता ही नहीं है। किसी को जूतों के बारे में पता ही नहीं है। आप अभी-के-अभी 1000 जोड़ी जूते भिजवा दीजिए। हम इन सभी को जूतों के बारे में बताएंगे और हमारा बिजनेस और एक्सपैंड कर सकता है। यहां तो इतना स्कोप है कि हम यहां जूतों की फैक्ट्री लगा सकते हैं।

कठिनाई में भी अवसर देखें

नजरिया तय करती है आपकी सफलता,इस कहानी से ले सकते हैं प्रेरणा

तो फ्रेंड्स, देखा आपने एक ही सिचुएशन को दोनों सेल्समैन के देखने का नजरिया बिल्कुल अलग था। पहले वाले सेल्समैन को जहां अवसर में कठिनाई नजर आई, वहीं दूसरे को कठिनाई में भी अवसर दिखा। तो च्वॉइस आपकी है। आपको अपनी लाइफ के हर सिचुएशन में कठिनाई देखनी है या अवसर। अगर आप अवसर देखेंगे तो अवसर नजर आएगा और अगर आपका फोकस समस्या पर होगा, तो समस्या नजर आएगी। बेहतर यही है कि किसी भी सिचुएशन में हमेशा अवसर ढूंढें ताकि परेशानी आपकी सफलता का रास्ता न रोक सके।

काम की बात

1. किसी भी सिचुएशन को देखने का अपना नजरिया हमेशा सकारात्मक रखें।

2. कठिन से कठिन परिस्थितियों में भी अवसर ढूंढने की कोशिश से ही सफलता मिलती है।

अगर बार-बार असफल हो रहे हैं तो इस सच्ची कहानी से मिल सकती है जीत का मंत्र

आप कैसे कर सकते हैं अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन? इस सच्ची घटना में है जवाब

Spiritual News inextlive from Spiritual News Desk