जमशेदपुर। आनंदपुर थाना क्षेत्र अंतर्गत हारता गांव के टोप्पो टोला में झगड़ा के बीच पत्थर से कुचलकर 30 वर्षीय प्रताप टोप्पो नामक व्यक्ति की हत्या कर दी गई. घटना मंगलवार शाम 8 बजे से 10 बजे के बीच की बताई जाती है. घटना की जानकारी मिलने पर बुधवार की सुबह इंस्पेक्टर खुर्शीद आलम आनंदपुर पुलिस को लेकर घटनास्थल पर पहुंचे व शव को बरामद किया. लाश का पंचनामा कर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया. मृतक के पिता के बयान पर गांव के ही दो लोग जगदीश टोप्पो और सुरेश टोप्पो के खिलाफ आनन्दपुर थाना में हत्या को मामला दर्ज किया गया. बताया जाता है घटना की रात प्रताप टोप्पो और सुरेश टोप्पो के बीच झगड़ा हुआ था. पर हत्या का मूल कारण का अभी तक पता नही चल पाया है. बताया जाता है कि आरोपियों को पकड़े जाने के बाद ही हत्या के कारण का खुलासा हो सकता है. इधर घटना के बाद से दोनो आरोपी जगदीश टोप्पो और सुरेश टोप्पो गांव से फरार हैं.


चर्च जाने के क्रम में हुई घटना

मृतक प्रताप टोप्पो के पिता रंजीत टोप्पो व गांव के ही गोसाई टोप्पो की मानें, तो एक तरह से गोसाई के यंहा काम घर में हडि़या पीने के बाद चर्च जाने के क्रम में मृतक प्रताप व जगदीश के बीच झगड़ा हुआ था. सम्भवत: चर्च जाने के क्रम में ही प्रताप की हत्या हुई है. घटना स्थल पर पुलिस के पहुंचने पर मृतक के पिता रंजीत टोप्पो ने बताया कि गोसाई टोप्पो की चाची की मौत हो जाने के कारण मंगलवार की दोपहर को गांव के युवक उसे दफनाने गए थे. जिसमे प्रताप भी शामिल था. उसी शाम को टोले के सभी लोगों को परंपरा के अनुसार गोसाई के घर आमंत्रित किया गया था. जहां उन्हें पीने के लिए हंडिया दी गई थी. हंडिया पीने के बाद लगभग सभी लोग एक एक कर टोप्पो टोला के चर्च गए. चर्च में मरियम जुलूस का कार्यक्रम था, जो कि शाम 6 बजे से शुरू होकर रात 12 बजे तक चला. रंजीत ने पुलिस को बताया कि वह चर्च नहीं जाकर गोसाई के घर से वापस अपने घर लौट गया था. वहीं पुलिस की पूछताछ में गोसाई टोप्पो ने पुलिस को बताया कि वह जब चर्च जा रहा था, तो उसके पीछे बलासीयूस केरकेट्टा, प्रताप और जगदीश चर्च की और आ रहे थे. इसी बीच प्रताप और जगदीश में आपसी झगड़ा भी हुआ. यह घटना मंगलवार की रात्रि लगभग 8 बजे की है. इसके बाद प्रताप को किसी ने भी नहीं देखा. इधर बलासीयूस ने पुलिस को बताया कि जगदीश टोप्पो रात्रि लागभग 11 बजे चर्च पहुंचा था, लेकिन साथ मे प्रताप अथवा सुरेश नहीं थे. सोमवार सुबह गोसाई ने प्रताप के शव को पहले देखा और प्रताप के पिता रंजीत को इसकी जानकारी दी. खबर गांव में फैलते ही टोला के सभी लोग प्रताप के शव के पास जुटे, जिसमें जगदीश टोप्पो और सुरेश टोप्पो भी शामिल थे. पर ग्रामीणों ने बताया कि पुलिस के आने की खबर मिलते ही जगदीश और सुरेश फरार हो गए.


हरता में प्रताप टोप्पो की हत्या पत्थर से कुचल कर की गई है. मृतक के पिता के बयान पर उसी गांव टोला के दो लोग जगदीश व सुरेश के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज किया गया. हत्या की रात प्रताप के साथ आरोपियों का झगड़ा हुआ था. आरोपी पकड़े जाने के बाद ही हत्या के कारण का खुलासा हो पाएगा. दोनो आरोपी फरार हैं, लेकिन जल्द ही पकड़े जाएंगें. पुलिस कार्रवाई कर रही है.

- मो. खुर्शीद आलम, पुलिस निरीक्षक, मनोहरपुर