छ्वन्रूस्॥श्वष्ठक्कक्त्र : काशीडीह में शनिवार को कपाली (गौसनगर) निवासी महफूज आलम (25) का शव ग्रिल से लटकता मिला। जहां उसका शव मिला, वह उसका ससुराल था। उसने आत्महत्या की या उसकी हत्या की गई यह तो पुलिस की जांच के बाद ही स्पष्ट होगा, लेकिन उसके परिजनों का आरोप है कि उसके ससुराल वालों ने उसकी हत्या कर शव को ग्रिल से लटका दिया। महफूज की मां पिंकी खातून ने हत्या करने का आरोप काशीडीह निवासी घोचू, माया देवी, लक्ष्मी, काजल व सीमा (महफूज की पत्नी) पर लगाया है।

आत्महत्या का रूप देने का प्रयास

पिंकी के मुताबिक सीमा व उसके परिजनों ने महफूज को पहले मार डाला, इसके बाद उसके शव को घर पर ही ग्रिल से लटका दिया। पिंकी ने बताया कि महफूज को सीमा से प्यार करने की कीमत जान देकर चुकानी पड़ी। घटना के संबंध में महफूज की मां ने आरोप लगाया कि महफूज की हत्या उसके ससुराल वालों ने पांच अप्रैल की रात को ही कर दी थी। बाद में शव को फंदे से लटका कर आत्महत्या का रूप देने की कोशिश की गई।

सीमा को ससुराल से लाने गया था महफूज

महफूज की मां ने बताया कि वह (महफूज) अपनी मौसेरी बहन गुडि़या के साथ सीमा को मायके से लाने के लिए पांच अप्रैल को ही काशीडीह गया था। उसी रात उसकी हत्या की गई। मां का आरोप है कि हत्या के बाद शव को नदी में फेंकने की योजना बनाई गई थी, लेकिन गुडि़या के घर में रहने के कारण वे ऐसा नहीं कर सके। बहरहाल, मामले को संदिग्ध मानकर पुलिस महफूज के ससुराल वालों को थाने बुलाकर पूछताछ कर रही है।

जन्माष्टमी के दिन काशीडीह में हुई थी शादी

मृतक की मां ने बताया कि जन्माष्टमी के दिन तीन सितंबर 2018 को महफूज उर्फ सन्नी की सीमा के साथ शादी हुई थी। शादी सीमा के काशीडीह स्थित आवास पर ही हुई थी। जिसमें दोनों पक्ष के लोग शामिल हुए थे और आशीर्वाद दिया था। पिंकी ने बताया कि शादी से पूर्व दोनों के बीच चार साल से प्रेम चल रहा था। दोनों की मुलाकात साकची में ही कागज व प्लास्टिक चुनने के दौरान हुई थी। महफूज की मां के मुताबिक शादी के बाद दोनों खुशी-खुशी रह रहे थे। सपरिवार आराम से रह रहे थे।

महफूज के परिजन पहुंचे काशीडीह

महफूज के अपने ससुराल के ग्रिल में संदिग्ध अवस्था में फंदे से लटके मिलने की सूचना पर उसकी मां पिंकी खातून (पत्‍‌नी मो। शकील) अपने बड़े पुत्र राज व मौसेरी बहन गुडि़या के साथ काशीडीह पहुंची। इसके बाद घटना की जानकारी साकची पुलिस को दी गई। पुलिस ने शव को उठाकर पोस्टमार्टम के लिए एमजीएम मेडिकल कॉलेज भेज दिया।