दीवार पर सिर पटकना शुरू कर दिया
ranchi@inext.co.in
RANCHI: जगन्नाथपुर थाना हाजत में युवक की मौत सुसाइड है या मर्डर यह सवाल सिटी के लोगों के बीच उठने लगा है। रविवार को हटिया कचनार टोली के रहने वाले सुनील कच्छप की थाना हाजत के भीतर मौत हो गई। घटना के समय थानेदार अनूप कुमार कर्मकार थाने में ही मौजूद थे। उनका कहना है कि सुनील ने अचानक दीवार पर सिर पटकना शुरू कर दिया और जमीन पर गिर पड़ा। होमगार्ड के जवान ने उसे बाहर निकाला तब तक मौत हो गई थी। मौत के कारणों का खुलासा पोस्टमार्टम के बाद ही संभव हो पाएगा। इधर, सुनील की पत्नी सोमी कच्छप और परिजनों का कहना है कि वे लोग 2 बजे जब सुनील से मिलकर घर लौटे तो वह बिल्कुल ठीक था। उन्हें थाना से फोन आया कि सुनील की मौत हो गई। जब वे लोग थाना पहुंचे तो सुनील का शव हाजत के बाहर रखा हुआ था। हाजत में मौत की इस घटना के बाद पुलिस महकमा सक्रिय हो गया। सिटी एसपी, हटिया डीएसपी जगन्नाथपुर थाना पहुंचे और घटना की जानकारी ली।

हाजत में पुलिस सुरक्षा ध्वस्त
सुनील की मौत ने पुलिस की सुरक्षा व्यवस्था पर बड़े सवाल खड़े कर दिए हैं। हाजत के भीतर पुलिस अभिरक्षा में मौत हो जाना पुलिस को भी गैर इरादतन हत्या का दोषी बना रहा है। पुलिस जब थाना के भीतर हाजत में लोगों की सुरक्षा नहीं कर सकती तो पूरे थानाक्षेत्र में सुरक्षा व्यवस्ता कैसे पुख्ता करेगी, यह सवाल उठ रहे हैं।

पुलिस और परिजनों में फैक्ट वार
घटना को लेकर पुलिस व परिजनों के बयान के कारण फैक्ट वार शुरू हो गया है। दोनो पक्ष घटना को लेकर अलग-अलग बयान दे रहे हैं। परिजनों का कहना है कि सुनील को 15 जून को ही गिरफ्तार कर थाना हाजत में बंद कर दिया गया था। इधर पुलिस का दावा है कि सारे दस्तावेज यह साबित कर रहे हैं कि सुनील को रविवार की दोपहर 3 बजे थाना लाया गया। अब यह जांच का विषय बन गया है कि परिजन सच कह रहे हैं या थानेदार।

पति-पत्नी विवाद में लाया गया था थाना
सुनील कच्छप की पत्नी सोमी का कहना है कि उसके और सुनील के बीच 15 जून को मारपीट हुई थी, जिसके बाद उसने परिजनों के सहयोग से पुलिस से सम्पर्क किया। पीसीआर की टीम सुनील को लेकर थाना आयी और उसे हाजत में बंद कर दी। सोमी का कहना है कि रविवार को वह सुनील से मिलने थाना आयी थी, तब वह बिल्कुल स्वस्थ था। लेकिन थोड़ी देर बाद ही पुलिस का फोन आया कि सुनील की मौत हो गई है।

पुलिस के दस्तावेज फुलप्रूफ
मामले में पुलिस ने भी फुलप्रूफ दस्तावेज तैयार किए हैं। पुलिस दस्तावेज के अनुसार, सुनील को रविवार की दोपहर 3 बजे गिरफ्तार किया गया। 2.30 बजे उसके खिलाफ उसकी पत्नी ने प्राथमिकी दर्ज कराई थी। उसे लाकर थाना हाजत में रखा गया, जहां वह अचानक सिर दीवार से पटकने लगा। फिर वह गिर पड़ा। जब उसे हाजत से बाहर लाया गया तो वह मर चुका था।

देर रात मेडिकल बोर्ड गठित, पोस्टमार्टम
मामले में मजिस्ट्रेट जांच शुरू कर दी गई है। सिटी एसपी अमन कुमार ने कहा कि पुलिस अधिकारियों के प्रयास से देर रात मेडिकल बोर्ड का गठन किया गया और सुनील का पोस्टमार्टम कराया गया। पुलिस चाहती है कि जो भी सच है, वो जल्द से जल्द सामने आए।

पहले भी लग चुके हैं थानेदार पर आरोप
जगन्नाथपुर थानेदार पर कुछ दिनों पूर्व भी महिलाओं के साथ बदसलुूकी और एक युवक को थाना हाजत में चोरी के आरोप में तीन दिन तक बंद रखने का आरोप लग चुका है। मामले की शिकायत डीआईजी एवी होमकर से भी की गई थी, जिसके बाद उसे थाना से छोड़ा गया था। स्थानीय लोगों का कहना है कि थानेदार अक्सर पुलिसिया रौब झाड़ते रहते हैं।

दोपहर 3 बजे गिरफ्तार किया
घटनास्थल के निरीक्षण और सारे दस्तावेज, सीसीटीवी देखकर ऐसा प्रतीत होता है कि सुनील कच्छप ने दीवार पर सिर पटका जिसके कारण उसे चोट आयी और मौत हो गई। हालांकि, मौत के कारणों का खुलासा पोस्टमार्टम के बाद ही संभव है। पुलिस ने सुनील कच्छप को रविवार की दोपहर 3 बजे गिरफ्तार किया था.
अमन कुमार, सिटी एसपी, रांची

क्या कहती है मृतक की पत्नी
मेरे पति को 15 जून से लाकर थाना हाजत में बंद रखा गया है। मैंने ही शिकायत की थी कि मेरे साथ मारपीट करता है। हमलोगों को लगा कि 2-4 दिन बंद रहेगा, तो सुधर जाएगा, लेकिन पुलिस हाजत में उसकी मौत हो गई। हमलोग को उसकी मौत के बाद फोन कर बुलाया गया।
-सोमी कच्छप, मृतक की पत्नी